जानें भारत के राष्ट्रीय चिन्ह एवं महत्व की पूरी जानकारी

भारत के राष्ट्रीय चिन्ह एवं महत्व (National Emblem and Importance of India) –

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक देश के भारतीयो की विरासत और पहचान के लिए मूलभूत हिस्सा होता है| यह उस देश की संस्कृति का प्रतीक होता है| इन प्रतिको का चुनाव बहुत सोच विचार के किया गया है|

विश्व भर मे बसे सभी भारतीय इन राष्ट्रीय प्रतिको पर गर्व करते है क्योकि वे प्रत्येक भारतीय के हृदय मे गौरव और देश भक्ति की भावना लाती है| जिससे सभी भारतवासी एक जुट होकर भारतीय होने का दावा करते है|

प्रत्येक राष्ट्र की पहचान उनके राष्ट्रीय प्रतीको से होती है| प्रत्येक देश के राष्ट्रीय प्रतिको का अपना इतिहास ,अपनी विशेषता और अपना व्यक्तित्व होता है| भारत का राष्ट्रीय प्रतीक उसका प्रतिबिंब होता है|

इस आर्टिकल से हम आपको भारत के राष्ट्रीय प्रतिको और उनकी महत्वों को विस्तृत रूप से बताएँगे|

List of National Emblem –

  • राष्ट्रीय राज चिन्ह
  • राष्ट्रीय ध्वज
  • राष्ट्र भाषा
  • राष्ट्रीय खेल
  • राष्ट्रीय पक्षी
  • राष्ट्रीय पुष्प
  • राष्ट्रीय गान
  • राष्ट्रीय गीत
  • राष्ट्रीय पशु

भारत के राष्ट्रीय चिन्ह (National Symbol)-

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक सारनाथ स्थित अशोक के सिंह स्तम्भ के शीर्ष भाग की अनुकृति है|

भारत सरकार ने इसे 26 जनवरी , 1950 ईसवी को भारत का राष्ट्रीय प्रतीक के रूप मे अपनाया | इस प्रतीक के नीचे मुंडकोपनिषद मे लिखा सूत्र ‘सत्यमेव जयते ‘ देवनागरी लिपि मे अंकित है|

शासकीय कार्यो मे प्रयोग मे लाये जाए वाले राष्ट्रीय प्रतीक अलग – अलग रंग के होते है| नीला राष्ट्रीय प्रतीक भारत के मंत्रियो द्वारा , लाल राष्ट्रीय प्रतीक राज्य सभा के सदस्यो और अधिकारियों द्वारा , हरा राष्ट्रीय प्रतीक लोक सभा के सदस्यो द्वारा उपयोग मे लाया जाता है|

know-the-complete-information-about-the-national-symbol-and-importance-of-india-by-technokashi-com

भारत की राष्ट्रीय राज चिन्ह अशोक स्तम्भ है जिसको मौर्य सम्राट अशोक ने सारनाथ मे स्थापित सिंह स्तम्भ से लिया गया है और भारत सरकार द्वारा इसे 26 जनवरी 1950 को अपनाया गया है| इसके नीचे सत्यमेव जयते लिखा है जो एक अच्छा संकेत मिलता है|

राष्ट्रीय ध्वज (National Flag) –

know-the-complete-information-about-the-national-symbol-and-importance-of-india-by-technokashi-com
National Flag

भारत के राष्ट्रीय ध्वज को संविधान सभा द्वारा 22 जुलाई , 1947 को मान्यता दी गई है| उसे 14 – 15 अगस्त की अर्धरात्रि से राष्ट्रीय ध्वज के रूप मे स्वीकार किया गया| यह एक तीन रंगीय झण्डा है, जिसमे समान अनुपात मे तीन आंड़ी (Horizontal) पट्टियाँ है|

इसकी लंबाई एवं चौडाई का अनुपात 3 : 2 है| इस राष्ट्रीय ध्वज के सबसे उपर केसरिया , बीच मे सफेद एवं सबसे नीचे हरे रंग की पट्टी होती है|सफेद रंग की पट्टी के बीच मे गहरे नीले रंग का एक चक्र है , जिसमे 24 तिलिया है| यह सारनाथ के अशोक स्तम्भ की अनुकृति है|

डॉ. राधा कृष्णन के अनुसार , केसरिया रंग त्याग का , सफेद रंग सत्यता तथा पवित्रता का , नीला रंग प्रगति का तथा हरा रंग समृद्धि का प्रतीक माना जाता है|

राष्ट्र भाषा (National language) –

भारत की कोई भी घोषित राष्ट्रभाषा नहीं है। भारत सरकार ने 22 भाषाओं को आधिकारिक भाषा के रूप में जगह दी है तथा राज्य सरकारें अपनी आधिकारिक

know-the-complete-information-about-the-national-symbol-and-importance-of-india-by-technokashi-com
National language Hindi

भाषा चुनने के लिए स्वतंत्र हैं। केंद्र सरकार ने अपने कार्यों के लिए हिन्दी  और अंग्रेजी भाषा  को आधिकारिक भाषा के रूप में जगह दी है।

राष्ट्रीय खेल –

भारत की राष्ट्रीय खेल हौकी है जो ओलंपिक से शुरू हुई है| भारतीय हॉकी संघ के इतिहास की शुरूआत ओलम्पिक में अपनी स्‍वर्ण गाथा आरंभ करने के लिए की गई। इस दौरे में भारत ने 21 मैचों में से 18 मैच जीते और प्रख्‍यात खिलाड़ी ध्‍यानचंद  ने अपना नाम बना लिया

know-the-complete-information-about-the-national-symbol-and-importance-of-india-by-technokashi-com

जब भारत के कुल 192 गोलों में से 100 गोल उन्‍होंने अकेले किए। यह मैच एमस्‍टर्डम में 1928 में हुआ और भारत लगातार लॉस एंजेलस में 1932 के दौरान तथा बर्लिन में 1936 के दौरान जीतता गया और इस प्रकार उसने ओलम्पिक में स्‍वर्ण पदकों की हैटट्रिक प्राप्‍त की| तभी से हौकी भारत की राष्ट्रीय खेल बन गई|

राष्ट्रीय पक्षी –

भारत का राष्ट्रीय पक्षी मोर है|यह अति सुंदर और रंगबिरंगा लंबा पछी है इसकी गार्डन पतली होती है यह नर और मादा दोनों होते है मादा से रंगीन नर होते है ये बहुत आकर्षित पंछियो मे से एक है | ये बारिश के समय अपने सारे पंखो को खोल कर नाचने लगते है |

know-the-complete-information-about-the-national-symbol-and-importance-of-india-by-technokashi-com
Peacock

राष्ट्रीय पुष्प –

भारत का राष्ट्रीय पुष्प कमल है | यह पवित्र फूल है और इसका प्राचीन भारत की कला और गाथा मे विशेष स्थान प्राप्त करता है |

know-the-complete-information-about-the-national-symbol-and-importance-of-india-by-technokashi-com

इसको वैज्ञानिक रूप से ‘Nelumbo Nucifera’ के नाम से जानते हैं। कमल दो रंगों में पाया जाता है: सफ़ेद एवं गुलाबी। यह तालाबों, पोखरों एवं कीचड़ भरी जगहों में पाया जाता है|हिन्दुओ की यह मान्यता है की कमल धन की देवी लक्ष्मी का बैठने का सिंहासन है| यह अति प्राचीन समय से ही इसकी मान्यता रही है| यह फूल देखने मे काफी सुंदर और कोमल प्रतीत होता है|

राष्ट्रीय गान-

भारत का राष्ट्रीय गान ‘जन -गण -मन ‘ है जिसकी रचना स्‍वर्गीय कवि रबीन्द्रनाथ ठाकुर  ने राष्ट्र के नाम पर लिखा है| यह गान अनेक अवसरो पर बजाया जाता है| यह राष्ट्रीय पर्वो और सभी स्कूलो मेगाया जाता है|

यह 52 sec की अवधि मे गाया जाता है|

‘जन -गण -मन’ की कुछ लाइने इस प्रकार है-

जन-गण-मन अधिनायक, जय हे
भारत-भाग्‍य-विधाता,
पंजाब-सिंधु गुजरात-मराठा,
द्रविड़-उत्‍कल बंग,
विन्‍ध्‍य-हिमाचल-यमुना गंगा,
उच्‍छल-जलधि-तरंग,
तव शुभ नामे जागे,
तव शुभ आशिष मांगे,
गाहे तव जय गाथा,
जन-गण-मंगल दायक जय हे
भारत-भाग्‍य-विधाता
जय हे, जय हे, जय हे
जय जय जय जय हे।

राष्ट्रीय गीत-

भारत की राष्ट्रीय गीत ‘वंदे मातरम‘ है जिसकी रचना बंकिम चन्‍द्र चटर्जी ने की | जो संस्कृत मे इनके द्वारा लिखी गई थी | जब देश मे स्वतन्त्रता की लड़ाई चल रही थी तो तभी इनहोने इस गीत को लिख कर लोगो को देश के प्रति जागरूक और गौरव प्रदान करने की कोसिस की थी |

know-the-complete-information-about-the-national-symbol-and-importance-of-india-by-technokashi-com
बंकिम चन्‍द्र चटर्जी

इसे पहली बार 1896 में भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस के सत्र में गाया गया था। 24 जनवरी 1950 को इस गीत को मान्यता प्रदान की गयी थी।

राष्ट्रीय गीत की कुछ पंक्ति निम्न है-

वंदे मातरम्, वंदे मातरम्!
सुजलाम्, सुफलाम्, मलयज शीतलाम्,
शस्यश्यामलाम्, मातरम्!
वंदे मातरम्!
शुभ्रज्योत्सनाम् पुलकितयामिनीम्,
फुल्लकुसुमित द्रुमदल शोभिनीम्,
सुहासिनीम् सुमधुर भाषिणीम्,
सुखदाम् वरदाम्, मातरम्!
वंदे मातरम्, वंदे मातरम्॥

राष्ट्रीय पशु-

भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ है जिसको तेंदुआ भी कहा जाता है| यह एक धारीदार पट्टियों वाला जानवर है| यह पशु अति फुर्तीला और अत्यधिक शक्ति शाली होता है | इसी कारण यह देश का सबसे गौरान्वित और लोगो को जागरूक करने वाला पशु माना जाता है|

know-the-complete-information-about-the-national-symbol-and-importance-of-india-by-technokashi-com
बाघ

कहा जा रहा है की भारत से बाघो की संख्या मे कमी आ रही है जिसके तहत बाघ परियोजना की शुरुआत की गई जिससे बाघो को सुरक्षित किया जा रहा है|

तो friends ये रही हमारी post

कैसी लगी comment कीजिये और हमसे connect हो जाइए

Deepshikha Gupta

Deepshikha Gupta likes to work as a blogger, she is more conscious in writing articles, she is a resident of Varanasi, she has more thinking power and is passionate about thought....

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *